Breaking Newsदिल्लीदेशराजनीतिविदेश

भारत-अमेरिका के संयुक्त बयान में आतंकवाद मुद्दे को प्रमुखता,सीसीए पर बोले ट्रंप-यह भारत का अपना मामला

  • भारत में सभी धर्मो का होता है सम्मान
  • पाकिस्तान को अलकायदा,आईएसआईएस समेत बड़े आतंकी समूह पर कार्रवाई के निर्देश
  • ट्रंप और मोदी की ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस
  • भारत के इस दौरे को कभी नहीं भूलेंगे: ट्रंप
  • अमेरिका से भारत की साझेदारी अहम: मोदी
  • डोनाल्ट ट्रंप अपनी दो दविसीय यात्रा पूरी कर अमेरिका रवाना

नई दिल्ली।अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत का दो दिवसीय दौरे के अंतिम दिन मंगलवार को ट्रंप और पीएम नरेंद्र मोदी के बीच वार्ता हुई। भारत-अमेरिका की ओर से जारी संयुक्त बयान में आतंकवाद के मुद्दे को प्रमुखता से जगह दी गई। संयुक्त बयान में पाकिस्तान से कहा गया कि वो इसे गंभीरता से लें कि उनकी जमीन पर कोई भी आतंकी गतिविधियां न हों। इसके साथ ही 26/11 मुंबई हमले और पठानकोट हमले के दोषियों पर सख्त कार्रवाई की बात कही गई है। ट्रंप अपनी दो दिवसीय दौरा पूरी कर मंगलवार की देर शाम अमेरिका के लिए रवाना हो गये। ट्रंप के साथ उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप, पुत्री इवांका, दामाद जेरेड कुशनर और उनके प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी दो दिवसीय भारत दौरे पर आये थे।

स्वदेश रवाना हुए ट्रंप।

भारत और अमेरिका के बीच संयुक्त बयान में अलकायदा, आईएसआईएस, जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर ए तैय्यबा, हिज्बुल मुजाहिदीन, हक्कानी नेटवर्क समेत सभी आतंकी समूहों पर कार्रवाई की बात भी कही गई है। अफगानिस्तान में लोकतांत्रिक, स्थायी शांति की स्थिति को ध्यान में रखते हुए भारत और अमेरिका ने विशेष चर्चा की। दोनों देशों ने अफगानिस्तान के नेतृत्व वाली सरकार को अपने यहां शांति स्थापित करने में हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। ट्रंप ने अफगानिस्तान के विकास को लेकर भारत के प्रयासों की जमकर सराहना की।
मोदी-ट्रंप में आतंकवाद से निपटने के तरीकों पर हुई बात
अमेरिकी प्रसिडेंट ने प्रेस कांफ्रेस में कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के साथ उनकी बातचीत में आतंकवाद से निपटने के तरीकों पर प्रमुखता से बातचीत हुई। मोदी आतंकवाद को रोकने के लिए संकल्पित हैं। ट्रंप ने कहा, ‘हमने पाकिस्तान के बारे में बहुत बातचीत की। मेरा प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ बहुत अच्छा रिश्ता है। हमने पीएम मोदी से इस बारे में आज विस्तार से बात की। निस्संदेह यह एक समस्या है। यह एक समस्या है, वे इस पर काम कर रहे हैं।’ट्रंप ने कहा कि हमें उम्मीद है और मैंने केवल इतना कहा कि मुझे जो करना है, मैं जो कर सकता हूं, मैं करूंगा क्योंकि भारत और पाकिस्तान से मेरे संबंध बहुत अच्छे हैं। लेकिन पाकिस्तान में मुश्किलें रही हैं। हम देख रहे हैं कि इस बारे में क्या कर सकते हैं। मध्यस्थता के लिए मैं जो कर सकता हूं, मदद के लिए मैं जो कर सकता हूं, मैं करूंगा।
इंडिया व यूएसए के बीच तीन अरब डॉलर की डिफेंस डील
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम नरेंद्र मोदी के बीच बैठक में दोनों देशों के बीच 3 अरब डॉलर के रक्षा डील की घोषणा कर दी ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान की धरती से चलने वाले आतंकवाद पर लगाम लगाने की जरूरत है। ट्रंप और मोदी ने दोनों देशों के बीच मजबूत रिश्तों का भी जिक्र किया। ट्रंप ने कहा कि वह भारत का यह दौरा कभी नहीं भूलेंगे।रक्षा सौदे में में अमेरिका से 24 MH60 रोमियो हेलिकॉप्टर की 2.6 अरब अमेरिकी डॉलर में खरीद शामिल है। एक अन्य डील छह AH 64Eअपाचे हेलिकॉप्टर को लेकर है जिसकी कीमत 80 करोड़ डॉलर होगी। ट्रंप ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि तीन अरब डॉलर से ज्यादा के डिफेंस डील से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे।
पीएम नरेंद्र मोदी ने जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि हमने भारत-अमेरिका पार्टनरशिप के महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की, वह चाहे रक्षा हो या सुरक्षा। हमने एनर्जी स्ट्रैटिजिक पार्टनरशिप, ट्रेड और पिपल-टु-पिपल के बीच संबंधों पर भी चर्चा की। रक्षा क्षेत्र में भारत-अमेरिका के बीच मजबूत होता रिश्ता हमारी साझेदारी का महत्वपूर्ण पक्ष है।ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी और मैं अपने नागरिकों को कट्टर इस्लामी आतंकवाद से बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमेरिका पाकिस्तान की धरती से चल रहे आतंकवाद को रोकने के लिए कदम उठा रहा है।
ट्रंप ने कहा- दिल्ली हिंसा पर PM मोदी से नहीं की चर्चा

डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार शाम मीडिया से बातचीत में दिल्ली में हुई हिंसा, सीएए, कश्मीर समेत कई मुद्दों पर राय रखी। सीएए को लेकर दिल्ली में हुई हिंसा पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि मैने नरेंद्र मोदी से इसके बारे में चर्चा नहीं की। यह भारत का अपना मामला है। सीएए के विरोध में दिल्ली में भड़की हिंसा के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो टूक कहा कि सीएए भारत का आंतरिक मामला है। इसलिए वह इस मामले में दखल नहीं देंगे। भारत सरकार अपनी जनता के लिए सही फैसले लेने में सक्षम है।
ट्रंप ने भारत को एक अद्भुत देश बताया
ट्रंप ने धार्मिक स्वतंत्रता के मुद्दे पर ट्रंप ने कहा कि भारत इस पर सही काम कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक मजबूत नेता हैं। उनसे मुझे काफी सकारात्मक जवाब मिला है। मोदी सरकार ने धार्मिक स्वतंत्रता के लिए बहुत मेहनत की है। यहां हर नागरिक को आजादी है। वैसे भी हम पीछे मुड़ कर देखते हैं, तो पाते हैं कि अन्य स्थानों के मुकाबले भारत ने धार्मिक स्वतंत्रता पर वाकई बहुत काम किया है। सीएए पर एक सवाल के जवाब ने ट्रंप ने कहा कि वह किसी विवाद में पड़कर अपनी दो दिवसीय शानदार यात्रा को खराब नहीं करना चाहते। राष्ट्रीय राजधानी में उनकी यात्रा के समय हिंसा की घटनाओं के बारे में पूछे जाने पर केवल इतना कहा कि जहां तक अलग-अलग हमलों की बात है, तो मैंने इनके बारे में सुना, लेकिन मैंने उनसे उस बारे में बात नहीं की। ट्रंप ने 53 मिनट के संवाददाता सम्मेलन में लगभग 26 सवालों के जवाब दिये।
ट्रंप ने कहा कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच बड़ा मसला है, लेकिन दोनों देश इस समस्या को सुलझाने में सक्षम हैं।भारत-पाकिस्तान के बीच कश्मीर बड़ी समस्या है। उनको यह सुलझाना चाहिए. हर कहानी के दो पहलू होते हैं। ट्रंप ने तनाव कम करने के लिए दोनों देशों के बीच फिर से मध्यस्थता की पेशकश करते हुए कहा कि जो संभव होगा, वह करूंगा। मैंने पीएम के साथ आतंक पर भी विस्तार से बात की।भारत में मुसलमानों से भेदभाव संबंधी आरोपों पर ट्रंप ने कहा कि हमने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी से चर्चा की। हमने ईसाइयों को लेकर भी चर्चा की।मोदी ने हमें बताया कि वह मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ बहुत करीब से काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुछ साल पहले देश में जहां 14 करोड़ मुस्लिम थे, वहीं आज 20 करोड़ हैं। ट्रंप ने कहा पीएम मोदी एक बेहतरीन नेता हैं।
ट्रंप ने कहा कि मुझे  मालूम है कि मोदी क्या कर रहे हैं। वह एक दृढ़ इंसान हैं और उन्होंने काफी अच्छा काम किया है। भारत एक शानदार देश है। ऊर्जा क्षेत्र में भारत और अमेरिका के बीच सहयोग बढ़ रहा है। अगले 50 से 100 साल में भारत की भूमिका बड़ी होगी। भारत का भविष्य उज्ज्वल है।भारत-अमेरिका के बीच कोरोना वायरस को लेकर भी चर्चा हुई. अमेरिका इसे रोकने के लिए 14 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च कर रहा है। अफगानिस्तान में तालिबान के साथ अमेरिकी शांति समझौते पर भी प्रधानमंत्री मोदी से बात की है। मुझे लगता है कि भारत भी इससे खुश हैं।ट्रंप ने कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद से निपटने पर कहा कि रूस, सीरिया और ईरान को ऐसा करना चाहिए। ट्रंप ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि जितना मैंने किया उससे ज्यादा किसी ने किया है।ट्रंप ने अमेरिका-तालिबान शांति समझौते पर कहा कि हम इसके काफी करीब हैं। वहीं, यह पूछे जाने पर कि क्या रूस अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा है, ट्रंप ने कहा कि खुफिया एजेंसियों ने मुझे कभी नहीं बताया।ट्रंप ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी से पाकिस्तान पर चर्चा की। मेरे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ भी अच्छे समीकरण हैं, वे सीमा पार आतंकवाद को काबू करने के लिए काम कर रहे हैं।

इससे पहले दिल्ली में हैदराबाद हाउस में पीएम नरेंद्र मोदी और ट्रंप मिले. इस दौरान कई मुद्दों पर चर्चा हुई। भारत-अमेरिका ने तीन अरब डॉलर के रक्षा सौदे को अंतिम रूप दिया। दोनों देशों ने तीन समझौता पत्रों पर हस्ताक्षर भी किये, जिसमें से एक ऊर्जा क्षेत्र से संबंधित है। ट्रेड के लिए बातचीत पर भी सहमति बनी।
राष्ट्रपति भवन में भव्य स्वागत

राष्ट्रपति भवन में ट्रंप और उनकी पत्नी मेलेनिया का मंगलवार को पारंपरिक तरीके से भव्य स्वागत किया गया। ट्रंप को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। बाद में ट्रंप ने अपनी पत्नी के साथ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट पर पुष्पांजलि अर्पित की।
राष्ट्रपति कोविंद ने ट्रंप के सम्मान में दिया रात्रिभोज, कई बड़ी हस्तियों ने की शिरकत

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को उनके सम्मान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा दिए गए राजकीय रात्रिभोज में भाग लिया।वह अपनी पत्नी और अमेरिका की प्रथम महिला नागरिक मेलानिया ट्रंप के साथ पहुंचे ट्रंप का राष्ट्रपति भवन के भव्य प्रांगण में राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी सविता ने स्वागत किया।कोविंद अमेरिकी राष्ट्रपति को दरबार हॉल तक लेकर गयें जहां मेहमान राष्ट्रपति ने गौतम बुद्ध की पांचवीं सदी की प्रतिमा और अन्य अनेक भारतीय नेताओं की तस्वीरें देखीं। बाद में दोनों राष्ट्रपतियों ने रस्मी बातचीत की। कोविंद ने कहा कि भारत-अमेरिका संबंधों के महत्व का आकलन इस बात से ही किया जा सकता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करने के लिए बड़ी संख्या में लोग उमड़े।कोविंद ने अपने शुरूआती वक्तव्य में कहा कि अमेरिका एक मूल्यवान दोस्त है और भारत दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले दो दिन बहुत लाभप्रद रहे। उन्होंने कहा कि दोनों देश व्यापार और सैन्य समझौतों पर काम कर रहे हैं। ट्रंप ने कहा कि भारत आना सीखने का अद्भुत अनुभव देने वाला रहा है। उन्होंने स्वागत-सत्कार के लिए राष्ट्रपति कोविंद का शुक्रिया अदा किया।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com