Breaking NewsTrendingउत्तर प्रदेशझारखण्डपलामूबिहारराज्यशिक्षासीतामढ़ी

बिहार की बहु व झारखंड की बेटी कुमारी अलका सीएसआइआर-सीडीआरआइ से कर रही है PhD

  • पलामू जिले के उंटारी ब्लॉक के भितहारा के शिक्षक कृष्ण कुमार दूबे व सुनीता दूबे की है बेटी
  • सीतामढ़ी के बलहा-परसौनी के शशिशेखर सिंह व रागिनी सिंह की  पतोहू

पटना।बिहार की बहु व झारखंड की बेटी कुमारी अलका सीएसआर-सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीच्युट (सीडीआरआइ) लखनऊ से PhD कर रही है। वह न्यूरो साइंस सबजेक्ट के एक टॉपिक पर PhD कर रही है। वह अपने ससुराल व मैके व दोनों का नाम रौशन की है। अलका अभी ऑनलाइन अन एकेडमी लर्निंग एप से ऑनलाइन पढ़ाती है। वह सीएसआइआर नेट के लिए लाइफ साइंस की एजुकेटर भी है।

यह भी पढ़ें:बिहार के लाल शशांक भूषण को NASA Fellowship,धनबाद आइआइटी आइएसएम पास आउट है शशांक,वर्ल्ड के 120 स्टूडेंटों को मिली डिस्टिंग्विश्ड फेलोशिप

ग्रामीण परिवेश से टेक्नोलॉजी की ओर बढ़ी
पलामू जिले के उंटारी ब्लॉक सिसिगी भितियारा निवासी शिक्षक दंपत्ति कृष्ण कुमार दूबे व सुनीता दूबे की पुत्री है। अलका की शादी बिहार के सीतामढ़ी जिले के परसौनी बलहा निवासी शशि शेखर सिंह व रागिनी सिंह के पुत्र मंगल राज से हुई है। रागिनी सिंह भी शिक्षक हैं। अलका की प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही मिडिल स्कूल से हुई। माध्यमिक शिक्षा वह रेहला जेवी हाइ स्कूल से की है। जीएलए कॉलेज मेदनीनगर से ग्रेजुएशन करने पास की है।

यह भी पढ़ें:बिहार:डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने भोजपुरी में बताया कोरोना संक्रमण से बचाव के उपाय,बिहार के बचावे के बा

वनस्थली राजस्थान से की बीएससी बायोटेक्नलॉजी की पढ़ाई

अलका  राजस्थान के वनस्थली विद्यापीठ से बीएससी बायोटेक्नलॉजी की पढ़ाई पूरी की। वह बीएससी बायोटेक्नलॉजी की पढ़ाई कर स्कॉलरशीप भी हासिल की है। इसके बाद नेट की परीक्षा में सफल होकर सीडीआरआइ लखनऊ से PhD कर रही है। अलका ने अपने पैतृक गांव व ससुराल का नाम रौशन किया है। वह अपनी सफलता का श्रेय, माता-पिता, सास-ससुर व हसबैंड को देती है। अलका की सफलता से मैके व ससुराल दोनों जगह खुशी का माहौल है।

Comment here

37 − 30 =

WordPress Anti-Spam by WP-SpamShield

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com